अब BJP के दो मंत्रियों ने देश को लगाया 26,000 करोड़ का चूना,3 साल में बिना नाम के लोगों को जारी की रकम

देश ने यूपीए सरकार के भ्रष्टाचार से परेशान होकर बीजेपी समर्थित एनडीए सरकार को चुना था। यूपीए सरकार के 2G घोटाले से लेकर तमाम बड़े घोटालों का पर्दाफाश करने वाली नियंत्रक एंव महालेखा परीक्षक (कैग) संस्था ने अपनी विश्वसनीय छवि का कायम रखा।

इसी कैग ने मोदी सरकार के दो मंत्रालयो की जांच करके हरतरफ खलबली मचा दी है। प्रधानमंत्री नरेद्र मोदी की न खाउंगा न खाने देने वाली की सच्चाई सामने खोल कर रख दी।

कैग ने पाया कि, मोदी सरकार की हेल्थ एंड फैमिली वेलफेयर मंत्रालय व पावर मंत्रालय से 26,000 करोड़ का सरकारी अनुदान जारी किया। किसे दिया,क्यों दिया इसका कोई अता-पता नहीं।

यह अनुदान मोदी सरकार के तीन साल के शासनकाल के समय में ही दी गई। इसमें सभी जगह उक्त मंत्रियों के हस्ताक्षर भी पाए गए हैं। कैग की गवर्नमेंट फाइनेंस एकाउंट रिपोर्ट में बताया गया कि, मोदी सरकार के दोनो मंत्रालयों ने करोड़ो का सरकारी अनुदान जारी किया।

लेकिन न उसका मदसद है। न उसका कोई लाभार्थी है। न बिल न अनुदान देने की वजह। सिर्फ और सिर्फ अनुदान राशि बताई गई है।

आपको बता दें कि, कैग ने इस रिपोर्ट में साल 2014-16 की जांच ब्यौरा दिया है। कैग नियमित सरकार के खर्चें व जारी राशि और अनुदान ब्यौरे की जांच करती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *