केबीसी विजेता सुशील कुमार ने करोड़पति बनने के बाद किया ऐसा काम जिसे जानकर.!

कभी केबीसी कौन बनेगा करोड़पति में हॉट सीट पर पूछे जाने वाले ताबड़तोड़ सवालों का जवाब देकर करोड़पति बनने वाले सुशील कुमार आज फिर से सुर्खियों में है. जब सुशील ने सदी के महानायक अमिताभ बच्चन के सामने बैठ कर सभी सवालों का सही सही जवाब दिया तो पूरा बिहार प्रदेश अपने इस होनहार का जम कर स्वागत किया था. बता दे की सुशील कुमार आज बिहार में सौ से अधिक महादलित बच्चों को गोद लेकर क से कबूतर और ख से खरगोश पढ़ा रहे हैं. पूर्वी चंपारण के मोतिहारी स्थित कोटवा प्रखंड के मच्छरगांवा की मुसहर बस्ती में करोड़पति सुशील कुमार के कहा आजकल इन्हीं बच्चों के बीच गूंज रहे हैं.

एक छोटे से गांव से उठकर कौन बनेगा करोड़पति की हॉट सीट पर अपना जलवा बिखेरने वाले नामचीन श्ख्स के सामाजिक सरोकार का यह नजारा तब देखने को मिला,जब मेहनत-मजदूरी करके अपना और परिजनों का पेट पालने वालों की इस बस्ती में शिक्षा का उजाला केबीसी विजेता सुशील कुमार की वजह से आ रहा है, जिन्होंने लगभग एक साल पहले इस बस्ती के बच्चों को पढ़ाने का फैसला लिया. इसके लिए दो शिक्षक नियुक्त किये और जब एक बार पढ़ने-पढ़ाने का सिलसिला शुरू हुआ, तो फिर हालात बदलने लगे. साल भर पहले क, ख, ग नहीं जानेवाले मुसहर बस्ती के बच्चे अब किताब पढ़ने लगे हैं. पढ़ने को लेकर इन बच्चों में लगन है.

हर शाम ये पढ़ाई के लिए खुद ही इकट्ठा हो जाते हैं. शिक्षक रवि प्रकाश व शिवनंदन राय के आने से पहले ही बच्चे होमवर्क के बारे में बात करते हैं और जैसे ही शिक्षक पहुंचते हैं, पढ़ाई शुरू हो जाती है. समय-समय पर इन बच्चों की परीक्षा ली जाती है और उसी के मुताबिक हर बच्चे पर शिक्षक मेहनत करते हैं. अब ये बच्चे सरकारी स्कूल में पढ़ने जाने लगे हैं. विभिन्न कक्षाओं में इनका नाम लिखा है.वास्तव में सुशील के इस पहल से गरीबों में शिक्षा का अलख जग रहा है .बता दे की कभी मनरेगा के डाटा ऑपरेटर से केबीसी के विजेता का सफर तय करनेवाले सुशील अब पीएचडी कर रहे हैं. समाज के जरूरत मंद लोगों की मदद में इन्हें अच्छा लगता है, लेकिन इसके बारे में ज्यादा प्रचार नहीं करते. सभार- प्रभात खबर न्यूज़ पेपर मोतिहारी


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *