लगने वाला है बड़ा झटका: पेट्रोल 5-8%, डीजल 6-8% महंगा होने के आसार

नोटबंदी से परेशान लोगों के लिए एक और बुरी खबर आ सकती है. क्रिसिल ने एक रिपोर्ट जारी कर कहा है कि अगले 3-4 महीनों में पेट्रोल की कीमत में पांच से आठ फीसदी और डीजल की कीमत में छह से आठ फीसदी की वृद्धि होगी. क्योंकि पिछले हफ्ते तेल उत्पादक देशों के संघ ओपेक ने कच्चे तेल के उत्पादन में रोजना 12 लाख बैरल (एमपीबीडी) की कटौती का फैसला किया है.

क्रिसिल के बयान में कहा गया है, “ओपेक के इस कदम के कारण कच्चे तेल की कीमतें मार्च 2017 तक बढ़कर 50-55 डॉलर प्रति बैरल हो सकती हैं. और अगर यह बढ़कर 60 डॉलर प्रति बैरल तक हो जाती है (जैसा कि कुछ लोगों का मानना है), तो पेट्रोल की कीमत 80 रुपये और डीजल की कीमत 68 रुपये हो सकती है. लेकिन ओपेक के इस समझौते की सफलता इसके पालन पर निर्भर करती है.”

बयान में कहा गया है, “जहां तक घरेलू मांग का सवाल है, नोटबंदी के कारण अर्थव्यवस्था की वृद्धि दर कम हुई है, जिसके कारण पेट्रोल-डीजल की खपत में कमी आई है, लेकिन एक बार जब बाजार में दुबारा पर्याप्त संख्या में नकदी आ जाएगी तो इसकी मांग जोर पकड़ेगी.”

रिपोर्ट में कहा गया है कि जैसे ही कच्चे तेल के दाम 50 डॉलर से ऊपर जाएंगे, वैसे ही अमेरिकी शेयर बाजार के निवेशकों के लिए तेल कंपनियों के शेयर फिर से व्यवहार्य हो जाएंगे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *